शनिवार, 9 अगस्त 2014

ग़ज़ल 

राही  को उसकी राह दिखाती हैं उंगलियाँ ,
धरती पकड़ के राह बनाती हैं उंगलियाँ। 

दुनियाँ में जो आया हो कुछ रोज़ ही पहले ,
ऊँगली पकड़ के रिश्ता बनाती हैं उंगलियाँ। 

वेद-पुराण या क़ुरआन या गीता  से ग्रन्थ हों ,
कलम से पहला अंक लिखाती  हैं उंगलियाँ। 

आँखों में धनक कान में जल-तरंग की लहरें ,
कच्ची उमर में जब भी छू जाती हैं उंगलियाँ।

आँचल को बार बार खींच अलकों को संवारें ,
इक फूल थमा दिल  को लुभाती हैं उंगलियाँ।

पूरा गगन हँसा और इक रंगोली छा गई ,
हल्दी हिना से हाथ सजाती हैं उंगलियाँ।

फाल्गुन में भी सावन की बौछार रसभरी ,
गालों पे जब रंग लगाती हैं उंगलियाँ।

बुधवार, 28 अगस्त 2013

ग़ज़ल 

राही  को उसकी राह दिखाती हैं उंगलियाँ ,
धरती पकड़ के राह बनाती हैं उंगलियाँ। 

दुनियाँ में जो आया हो कुछ रोज़ ही पहले ,
ऊँगली पकड़ के रिश्ता बनाती हैं उंगलियाँ। 

वेद-पुराण या क़ुरआन या गीता  से ग्रन्थ हों ,
कलम से पहला अंक लिखाती  हैं उंगलियाँ। 

आँखों में धनक कान में जल-तरंग की लहरें ,
कच्ची उमर में जब भी छू जाती हैं उंगलियाँ।

आँचल को बार बार खींच अलकों को संवारें ,
इक फूल थमा दिल  को लुभाती हैं उंगलियाँ।

पूरा गगन हँसा और इक रंगोली छा गई ,
हल्दी हिना से हाथ सजाती हैं उंगलियाँ।

फाल्गुन में भी सावन की बौछार रसभरी ,
गालों पे जब रंग लगाती हैं उंगलियाँ।

रविवार, 14 जुलाई 2013

घर

मैं रहता था तेरे घर,
मेरा घर था तेरा घर।
इक अंगना और इक छत थी,
इक धरती थी, इक अम्बर।
घण्टी और अज़ान एक थी,
इक चादर, इक पीताम्बर।
मेरे जन, तेरे बन्दे,
ज़हर बुझे, तीखे तेवर।
पूजा स्थल के पास खड़े,
दोनों ही काँपें थर-थर।
मन्दिर की धक्कमपेल देख,
मैं राम खड़ा ताकूँ बेघर।
चादर तार-तार हो गई,
कीच में लिपटा पीताम्बर।
तेरा तन जो है घायल,
घाव लगे मेरे मन पर।

ध्वज मेरा धराशायी हुआ,
जब लूटा था तेरा घर।
तेरी जो दीवार गिरी,
कहां रहा मेरा भी घर।
दिवाली बनी है शोक दिवस,
वन गमन हुआ दशहरे पर।
अंधियारे को भेद न पाया,
चिराग़ राम का कोई शर।
मन भटकाते उगलें शोले,
ओढ़ें आस्था का आडम्बर।
मारीच और शैतान घुसे,
लोक लुभावन चेहरे धर।
द्वारपाल ही बन बैठे स्वामी,
जय विजय स्वर्ग सिंहासन पर।
मैं रहता था तेरे घर,
मेरा घर था तेरा घर।